चौपाल

आए हो तो थोड़ी देर रुक जाओ भई !!!!

ख़्वाब मरते नहीं – फ़राज़ फ़रवरी 3, 2009

Filed under: अहमद फ़राज़ — Satish Chandra Satyarthi @ 1:55 पूर्वाह्न

रचनाकार: अहमद फ़राज़

ख़्वाब मरते नहीं
ख़्वाब दिल हैं न आँखें न साँसें के जो
रेज़ा-रेज़ा हुए तो बिखर जायेंगे
जिस्म की मौत से ये भी मर जायेंगे

ख़्वाब मरते नहीं
ख़्वाब तो रौशनी हैं, नवा हैं, हवा हैं

जो काले पहाड़ों से रुकते नहीं
ज़ुल्म के दोज़ख़ों से भी फुँकते नहीं
रौशनी और नवा और हवा के आलम
मक़्तलों में पहुँच कर भी झुकते नहीं

ख़्वाब तो हर्फ़ हैं
ख़्वाब तो नूर हैं
ख़्वाब तो सुक़्रात हैं
ख़्वाब मंसूर हैं

Advertisements