चौपाल

आए हो तो थोड़ी देर रुक जाओ भई !!!!

दो लड़के अक्टूबर 24, 2008

मेरे आँगन में, (टीले पर है मेरा घर)
दो छोटे-से लड़के आ जाते है अकसर!
नंगे तन, गदबदे, साँबले, सहज छबीले,
मिट्टी के मटमैले पुतले, – पर फुर्तीले।
जल्दी से टीले के नीचे उधर, उतरकर
वे चुन ले जाते कूड़े से निधियाँ सुन्दर-
सिगरेट के खाली डिब्बे, पन्नी चमकीली,
फीतों के टुकड़े, तस्वीरे नीली पीली
मासिक पत्रों के कवरों की, औ\’ बन्दर से
किलकारी भरते हैं, खुश हो-हो अन्दर से।
दौड़ पार आँगन के फिर हो जाते ओझल
वे नाटे छः सात साल के लड़के मांसल
सुन्दर लगती नग्न देह, मोहती नयन-मन,
मानव के नाते उर में भरता अपनापन!
मानव के बालक है ये पासी के बच्चे
रोम-रोम मावन के साँचे में ढाले सच्चे!
अस्थि-मांस के इन जीवों की ही यह जग घर,
आत्मा का अधिवास न यह- वह सूक्ष्म, अनश्वर!
न्यौछावर है आत्मा नश्वर रक्त-मांस पर,
जग का अधिकारी है वह, जो है दुर्बलतर!
वह्नि, बाढ, उल्का, झंझा की भीषण भू पर
कैसे रह सकता है कोमल मनुज कलेवर?
निष्ठुर है जड़ प्रकृति, सहज भुंगर जीवित जन,
मानव को चाहिए जहाँ, मनुजोचित साधन!
क्यों न एक हों मानव-मानव सभी परस्पर
मानवता निर्माण करें जग में लोकोत्तर।
जीवन का प्रासाद उठे भू पर गौरवमय,
मानव का साम्राज्य बने, मानव-हित निश्चय।
जीवन की क्षण-धूलि रह सके जहाँ सुरक्षित,
रक्त-मांस की इच्छाएँ जन की हों पूरित!
-मनुज प्रेम से जहाँ रह सके,-मावन ईश्वर!
और कौन-सा स्वर्ग चाहिए तुझे धरा पर?

 

भारतमाता ग्रामवासिनी

खेतों में फैला है श्यामल

धूल भरा मैला-सा आँचल

गंगा जमुना में आंसू जल

मिट्टी कि प्रतिमा उदासिनी,
भारतमाता ग्रामवासिनी
दैन्य जड़ित अपलक नत चितवन

अधरों में चिर नीरव रोदन

युग-युग के तम से विषण्ण मन

वह अपने घर में प्रवासिनी,
भारतमाता ग्रामवासिनी
तीस कोटी संतान नग्न तन

अर्द्ध-क्षुभित, शोषित निरस्त्र जन

मूढ़, असभ्य, अशिक्षित, निर्धन

नतमस्तक तरुतल निवासिनी,
भारतमाता ग्रामवासिनी
स्वर्ण शस्य पर पद-तल-लुंठित

धरती-सा सहिष्णु मन कुंठित

क्रन्दन कम्पित अधर मौन स्मित

राहु ग्रसित शरदिंदु हासिनी,
भारतमाता ग्रामवासिनी
चिंतित भृकुटी क्षितिज तिमिरान्कित

नमित नयन नभ वाष्पाच्छादित

आनन श्री छाया शशि उपमित

ज्ञानमूढ़ गीता-प्रकाशिनी,
भारतमाता ग्रामवासिनी
सफ़ल आज उसका तप संयम

पिला अहिंसा स्तन्य सुधोपम

हरती जन-मन भय, भव तन भ्रम

जग जननी जीवन विकासिनी,
भारतमाता ग्रामवासिनी